ads

adss

adsss

adsss

  • ग्लोबर वार्मिग ने बिगाड़ा उत्तराखंड की बारिश का मिजाज
  • June 22, 2017
  • राज्य के मानसून सीजन की ही बात करें तो सतझड़ (सात दिन तक लगातार रिमझिम बारिश) अब बीते दौर की बात हो चली है। इसकी जगह कम समय में मूसलाधार बारिश ने ले ली है। यही नहींकहीं सूखा तो कहीं बाढ़ सरीखे हालात पैदा हो रहे हैं।  दो दशक पहले तक राज्य में मानसून सीजन में हफ्तेभर तक बारिश की झड़ी लगी रहती थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक सतझड़ के दौरान 188 घंटे की संयमित बारिश धरती को तरबतर करने के साथ ही भूजल भंडार को समृद्ध करती थी। धीरे-धीरे इसमें कमी आती चली गई और पिछले चार-पांच सालों के दरम्यान तो तीनदिन तक रहने वाली वर्षा की झड़ी भी गायब हो चली।  आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो वर्षभर में उत्तराखंड में 1580.8 मिमी बारिश होती हैजिसमें मानसून सीजन (जून से सितंबर तक) का योगदान1229.2 मिमी है। प्रतिवर्ष औसतन यह बारिश राज्य को मिल रही हैलेकिन इसके पैटर्न में बदलाव आया है। झड़ी के स्थान पर कम समय में अधिक बारिश हो रही है। जाहिर हैइससे दिक्कतें भी बढ़ी हैं। विशेषज्ञों के अनुसार वर्षा के पैटर्न में बदलाव की वजह ग्लोबल वॉर्मिंग है। 


  • Post a comment
  •       
Copyright © 2014 News Portal . All rights reserved
Designed & Hosted by: no amg Chaupal India
Sign Up For Our Newsletter
ads