ads

adss

adsss

adsss

  • राजघाट दिखा कर लौटा दी गई उम्मीदें लेकर हरिद्वार से दिल्ली तक आई किसान क्रांति पदयात्राआश्वासन की जगह मिली पानी की बौछार, आसूंगैस के गोले और लाठीचार्ज
  • October 04, 2018
  •  

    4 अक्टूबर- किसान क्रांति पद यात्रा
    राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के देश में किसानों को अपनी मांगों को लेकर पदयात्रा करने का भी हक नहीं रहा. आर्थिक बदहाली से जूझ रहे उत्तर प्रदेश के किसानों पर गाज़ियाबाद से दिल्ली में प्रवेश से रोका गया और उन पर लाठी चार्ज किया गया.
    23 सितंबर को हरिद्वार से अपनी कई मांगों को लेकर शुरू हुई किसान क्रांति पदयात्रा जब गाजियाबाद के साहिबाबाद पहुंची तो सरकार के काम खड़े हो गए. रही है। भारी मात्रा में जगह-जगह पुलिस बल तैनात कर दिया गया. लगभग 20 हजार किसान यात्रा कर रहे हैं. किसान दिल्ली के राजघाट पर जा कर अपनी यात्रा विसर्जित करना चाहते थे. लेकिन किसानों की धमक से डरी सरकार ने हर हथकंडा आजमाया. किसानों का प्रतिनिधि मंडल केंद्रीय मंत्रियों के यहां बातचीत के लिए पहुंचा हुआ था. करीब दस दिनों से लगातार पदयात्रा कर रहे किसानों की समस्या सुनने के लिए सरकार के वकत् नहीं था. यात्रा को आगे बढ़ने की इजाज़त नहीं थी. कई घंटों तक सरकार की अनुमति ना मिलने पर विचलित किसानों ने आगे बढ़ने की कोशिश की. जिस पर पुलिस ने पानी की बौछार की, आंसू गैस छोड़ी और फिर किसानों पर लाठी चार्ज भी किया. किसानों को अहसास हो गया कि सरकार उनकी मांगों पर आश्वासन देने के बजाय उनका मनोबल तोड़ना चाहती है. कई किसान बुरी त़रह से घायल हो गए. कोई केंद्रीय मंत्री प्रदर्शन स्थल नहीं पहुंचा. आखिर लहूलुहान हुए किसानों को दिल्ली प्रवेश की मंजूरी मिल गई. उन्हें एक तयशुदा रास्ते से राजघाट जाने की इजाजत दी गई. किसानों का आरोप है कि उन्हें राजघाट पर रुकने तक नहीं दिया गय़ा और नाउम्मीद किसान वापस लौट गए.
    आइए देखते हैं क्या मांगे ले कर आए थे किसान
    1-किसानों के लिए न्यूनतम आय तय करने, 60 साल की आयु के बाद किसान को 5,000 रुपए प्रति माह पेंशन की मांग की गई है।
    2-प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बदलाव किया जाए। इस योजना में किसानों को लाभ मिलने के बजाए बीमा कंपनियों को लाभ मिल रहा है।
    3-सरकार पूर्ण कर्जमाफी करें और बिजली के बढ़ाए दाम वापस ले।
    4-किसानों को सिंचाई के लिए बिजली मुफ्त में उपलब्ध कराई जाए।
    5-दिल्ली-एनसीआर में 10 साल से ज्यादा पुराने ट्रैक्टरों पर रोक हटा दी जाए।
    6-किसान क्रेडिट कार्ड योजना में बिना ब्याज लोन दिया जाए। महिला किसानों के लिए क्रेडिट कार्ड योजना अलग से बनाई जाए।
    7-आवारा पशुओं से किसानों के फसल को बचाने का इंतजाम किया जाए।
    8-जिन किसानों ने खुदकुशी की है, उनके परिजनों को नौकरी और परिवार को पुनर्वास दिलाने की मांग उठाई गई है।
    9-स्वामिनाथन कमेटी के फॉर्मूले के आधार पर किसानों की आय सी-2 लागत में कम से कम 50 प्रतिशत जोड़ कर दिया जाए।
    10-सभी फसलों की शत-प्रतिशत खरीद की गारंटी दी जाए।
    11-खेती में उपयोग होने वाली सभी वस्तुओं को जीएसटी से बाहर करने की मांग अहम है।
    12-चीनी का न्यूनतम मूल्य 40 रुपए प्रति किलो किया जाए और 7 से 10 दिन के अंदर गन्ना किसानों का भुगतान सुनिश्चित किया जाए।
    13-किसानों के पेंशन और गन्ने का बकाया भुगतान किया जाए।
     
  • Post a comment
  •       
Copyright © 2014 News Portal . All rights reserved
Designed & Hosted by: no amg Chaupal India
Sign Up For Our Newsletter
ads