search
  • सरकार ने मुंह फेरा तो ग्रामीणों ने श्रमदान कर 33 दिन में बनाया तलाब
  • May 31, 2017
  • मध्य प्रदेश के ग्राम खेड़ा में खेतों की सिंचाई के लिए आदिवासियों को अब किसी का मुंह नहीं देखना पड़ेगा और मवेशियों की प्यास भी आसानी से बुझ सकेगी। सरकार का रास्ता देखने की बजाय उन्होंने 33 दिन पसीना बहाया और तालाब तैयार कर लिया।

    शिवगंगा संस्था के हलमा कार्यक्रम के तहत श्रमदान कर बनाए इस तालाब पर 10 लाख रुपए खर्च आया हैजो संस्था ने अपने कोष से खर्च किया है। लगभग 100 मीटर लंबे, 30फीट ऊंचे और 24 करोड़ लीटर क्षमता वाले इस तालाब को बनाने का निर्णय ग्रामीणों ने काफी पहले ही ले लिया था। 33 दिन पहले काम शुरू होते हीमहिलाओं और बच्चों ने बड़े-बड़े पत्थर एक-दूसरे के हाथ में थमाए व तालाब की पाल पर जमाना शुरू कर दिया।

    करीब 3 हजार की आबादी वाले खेड़ा गांव के सभी छह फलियों के लोगों ने श्रमदान किया। हर फलिए से प्रतिदिन 50 से 60 लोग आते थे। सुबह और शाम को काम होता था। भोजन सभी अपने साथ लाते थे। जो लोग पहले तालाब निर्माण का काम कर चुके थेउनका तकनीकी अनुभव यहां मार्गदर्शन के काम आया। जब ज्यादा लोगों की जरूरत पड़ी तो हलमे के आह्वान पर 300 से 350 महिलाएंयुवतियां और बच्चे आ जुटे। सभी की मेहनत रंग लाई और 28 मई को तालाब बनकर तैयार हो गया।

     

      

  • Tags : तलाब,

  • Post a comment
  •       
Copyright © 2014 News Portal . All rights reserved
Designed & Hosted by: no amg Chaupal India
Sign Up For Our Newsletter
NEWS & SPECIAL INSIDE!
ads