search
  • कालेधन को अंकुश, टैक्स पेयर को प्रोत्साहित करेगी;ऑपरेशन क्लीन मनी वेबसाइट
  • May 17, 2017
  • क्लीन मनी वेबसाइट में इनकम टैक्स रेड की रिपोर्ट के साथ टैक्स डिफाल्टर्स की पहचान करने की प्रक्रिया की विस्तृत जानकारी भी इस वेबसाइट पर दी जायेगी। डिफाल्टर्स के खिलाफ हई रिस्क मीडियम रिस्क, लो रिस्क और वैरी लो रिस्क कैटिगरी के तहत अलग अलग एक्शन लिये जायेगे। हाई रिस्क की कैटेगरी में आने वाले लोगों और समूहों की तलाशी, जब्ती, और सीधी जांच जैसी कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा। मीडिटयम रिस्क कैटेगरी को एसएमएस या सूचना के जरिये सूचना भेजी जायेगी ताकि वो सुधार के उपाये कर सके। और लो रिस्क और वेरी लो रिस्क कैटिगरी के डिफाल्टर्स पर नजर रखी जायेगी। स्कैनिग के तहत आने वाले व्यक्तियों और समूहों की पहचान सार्वजनिक नहीं की जायेगी।

    सेंट्रल बोर्ड आफ डायरेक्ट टैक्सेज यानी सीबीडीटी का दावा है कि नोटबंदी के बाद आयकर रिटर्न की ई फाईलिग में 22 फीसदी का इजाफा हुआ है। विभाग का ये भी कहना है कि नोटबंदी के बाद 17.92 लाख ऐसे लोगों का पता लगाया गया है जिनके पास जमा कराई गई नकदी का हिसाब किताब नहीं है। इसके अलावा कर विभाग ने एक लाख संदिग्ध कर चोरी के मामलों का भी पता लगाया है।  उन्होंने बताया कि नोटबंदी के बाद 16,398करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता लगाया गया है। चंद्रा ने कहा कि 17.92 लाख लोगों द्वारा जमा कराई गई नकदी या नकद लेनदेन उनकी आमदनी से मेल नहीं खाता। इनमें से 9.72 लाख लोगों ने आयकर विभाग की ओर से भेजे गए एसएमएस और ई-मेल का जवाब दिया है।

     

  • Post a comment
  •       
Copyright © 2014 News Portal . All rights reserved
Designed & Hosted by: no amg Chaupal India
Sign Up For Our Newsletter
NEWS & SPECIAL INSIDE!
ads