search
  • राजधानी दिल्ली आकार का डंपिग ग्राउंन्ड, 2050 में देश को पड़ेगी जरूरत - रिपोर्ट
  • July 01, 2017
  •  

    एसोचैम और अकाउंटिंग कंपनी पीडब्ल्यूसी’ के संयुक्त अध्ययन के अनुसार, “भारत में चूंकि इस समय अधिकांश कचरा बिना शोधन के फेंका/बहाया जा रहा हैलिहाजा 2050 तक पूरे देश के कचरे के निष्पादन के लिए88 वर्ग किलोमीटर भूमि की जरूरत होगीजो नई दिल्ली महानगर परिषद के प्रशासनिक क्षेत्र के बराबर है। अनुमान के मुताबिक, 2050 तक भारत की आधी आबादी शहरी इलाकों में रहने लगेगीपरिणामस्वरूप हर साल पांच फीसदी कचरा बढ़ता जाएगा।

     

    इस अनुमान के मुताबिक, 2021 तक देशभर में हर वर्ष निकलने वाला कुल कचरा 10.1 करोड़ टन, 2031 तक 16.4 करोड़ टन और 2050 तक 43.6 करोड़ टन हो जाएगा। अध्ययन के अनुसारदेशभर से निकलने वाले कुल कचरे का 80 फीसदी हिस्सा 10 से 50 लाख तक की आबादी वाले प्रथम श्रेणी के महानगरों से निकलेगा। अध्ययन में अनुमान के आधार पर कहा गया है कि देश के मध्यम श्रेणी के शहरों में इस समय प्रति दिन प्रति व्यक्ति 300 से 400 ग्राम कचरा निकलता हैजबकि बड़े शहरों के लिए यह मात्रा 400 से 600 ग्राम है। अध्ययन में देश में कचरा प्रबंधन को प्रभावित करने वाले कारकों के रूप में अनुपयुक्त योजनाजटिल सांस्थानिक संरचनाकचरा प्रबंधन के लिए क्षमता की कमी और नगर निकायों को मिलने वाली सीमित धनराशि को रेखांकित किया गया है।

  • Post a comment
  •       
Copyright © 2014 News Portal . All rights reserved
Designed & Hosted by: no amg Chaupal India
Sign Up For Our Newsletter
NEWS & SPECIAL INSIDE!
ads